बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना

‘‘आर्थिक हल, युवाओं को बल’’ के अंतर्गत- बिहार के युवाओं के लिए राज्य सरकार की अभूतपूर्व पहल

मुख्यमंत्री के सात निश्चय कार्यक्रम में से एक आर्थिक हल युवाओं को बल एक महत्वाकांक्षी योजना है और इसके अन्तरर्गत भी तीन योजना है- 1) बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना 2) स्वयं सहायता भत्ता 3) कुशल युवा कार्यक्रम ।

नोटः मैं सर्वप्रथम पहला योजना बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड को आपके समक्ष रखूगाँ। ( आप इस योजनाओं में से सिर्फ एक का ही चुनाव कर सकते है।)

बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना एक बहुत ही महत्वपूर्ण योजना है, जो छात्र-छात्राओं के भविष्य निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगी। अब कोई भी छात्र-छात्रा उच्च तकनीकी शिक्षा से वंचित नहीं रहेंगे। बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना के तहत 12वीं कक्षा उर्त्तीर्ण (पॉलिटेकनिक पाठ्यक्रम के लिए 10वीं) इच्छुक विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा प्राप्ति हेतु सरकार द्वारा बिहार राज्य शिक्षा वित्त निगम के माध्यम से 04 लाख रूपये तक का शिक्षा ऋण उपलब्ध कराया जायेगा। इस ऋण राशि पर moratorium अवधि जो कि पाठ्यक्रम समाप्ति से एक वर्ष तक अथवा आवेदक के नियाजित होने के अधिकतम 6 माह (जो सबसे पहले हो) तक ब्याज की राषि देय नहीं होगी। इस ऋण राषि पर सरल ब्याज (simple interest) की दर 4 प्रतिषत होगी। इसके अंतर्गत महिला, दिव्यांग एवं ट्रांसजेन्डर आवेदकों को मात्र 1 प्रतिशत सरल ब्याज की दर से ऋण उपलब्ध कराया जायेगा। moratorium अवधि की समाप्ति के पष्चात् 02 लाख रूपये तक के ऋण को अधिकतम 60 मासिक किस्तों में तथा 02 लाख से ऊपर के ऋण को अधिकतम 84 मासिक किस्तों में वापस किया जा सकेगा। निर्धारित अवधि से पूर्व ऋण वापसी की स्थिति में 0.25 प्रतिशत ब्याज दर की छूट दी जायेगी। आवेदन की तिथि को आवेदक की आयु 25 वर्ष (स्नातक स्तरीय पाठ्यक्रम के लिए 30 वर्ष) से अधिक नहीं हो। कॉलेज फीस के साथ-साथ पुस्तक व अन्य संसाधनों के लिए प्रतिवर्ष दस हजार रूपये दिये जायेंगे। स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना के तहत छात्र-छात्राएं लैपटॉप भी खरीद सकेंगे। कॉलेज फीस और हॉस्टल खर्च के साथ ही इसकी अलग से सुविधा मिलेगी। छात्र-छात्राओं के लिए बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना वरदान सावित हो रही है।

राशि का हस्तानांतरण-
शिक्षण शुल्क एवं संस्थान में जमा किये जाने वाले अन्य शुल्क RTGS/NEFT (अथवा विशेष स्थिति में Bank Draft ) के माध्यम से संस्थान को उपलब्ध कराई जायेगी। छात्रावास के बाहर रहने की स्थिति में आवेदक को वर्गीकृत शहरों के लिए तय मानक के अनुरूप निर्धारित राशि तथा पाठ्य-पुस्तक एवं पठन-पाठन सामग्री हेतु निर्धारित राशि आवेदक के खाते में उपलब्ध कराई जायेगी।

अगली किस्तों का भुगतान –
आवेदक/सह-आवेदक द्वारा वार्षिक/semester परीक्षा उत्तीर्णता या अग्रणित होने का प्रमाण-पत्र, जो अंक-पत्र अथवा संस्थान द्वारा निर्गत इस आशय का प्रमाण-पत्र होगा, को ऑनलाईन संलग्न करते हुए अगली किस्त के भुगतान हेतु DRCCपर आवेदन उपलब्ध कराया जायेगा।

योजना के लिए पात्रता –
इस योजना के तहत बिहार राज्य के निवासी वैसे विद्यार्थी जिन्होंने बिहार राज्य एवं सीमावर्त्ती राज्यों से 12वीं कक्षा उत्तीर्ण की हो तथा उच्च शिक्षा प्राप्ति हेतु ऋण के लिये इच्छुक हों, उन्हें बिहार राज्य शिक्षा वित्त निगम के माध्यम से शिक्षा ऋण उपलब्ध कराया जायेगा। जो इस प्रकार है –
(1.) विद्यार्थी द्वारा बिहार एवं अन्य राज्य या केन्द्र सरकार के संबंधित नियामक एजेन्सी द्वारा मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थान में उच्चा शिक्षा हेतु नामांकन हो या नामांकन के लिये चयनित हो।
(2.) यह ऋण उच्च शिक्षा के सामान्य पाठ्यक्रमों, विभिन्न व्यवसायिक एवं तकनीकी पाठ्यक्रमों के लिये दी जायेगी।
(3.) इस योजना के अन्तर्गत बिहार राज्य से मान्यता प्राप्त संस्थानों से 12वीं अथवा समतुल्य (Polytechnic पाठ्यक्रम के लिये 10वीं) परीक्षा उत्तीर्ण विद्यार्थी तथा बिहार राज्य के सीमावर्ती जिलों के सीमावर्ती प्रखंडों के सीमावर्ती राज्य तथा झारखंड, उत्तर प्रदेश एवं पश्चिम बंगाल के विद्यालय या बोर्ड से 10वीं/12वीं/ +2 Polytechnic पाठ्यक्रम के लिये 10वीद्ध उत्तीर्ण बिहार राज्य के मूल निवासी विद्यार्थियों को भी इस योजना का लाभ दिया जा सकेगा।
(4.) विद्यार्थियों को रहने, जीवन-यापन के लिये निर्धारित राशि के अतिरिक्त पाठ्य-पुस्तक, पठन-पाठन सामग्री क्रय के लिये 10000/- (दस हजार रूपये) प्रतिवर्ष राशि का प्रावधान है।

इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिये आवेदन करने की तिथि को आवेदक की आयु 25 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिये। स्नातकोत्तर स्तर के वैसे निर्धारित पाठ्यक्रम जिनमें नामांकन हेतु न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता स्नातक उत्तीर्ण है, के लिये अधिकतम उम्र सीमा 30 वर्ष होगी।
ऋण वापसी की प्रक्रिया बेहद सरल एवं सुविधापूर्ण। आय नहीं होने की स्थिति में वापसी की प्रक्रिया स्थगित। समय से पूर्व राशि वापसी पर छूट का प्रावधान।
इस योजना का लाभ सभी वर्ग, जाति, कोटि, लिंग, धर्म एवं आय-समूह प्राप्त कर सकते हैं साथ ही पाठ्यक्रम अवधि के बीच में भी इस योजना का लाभ प्राप्त किया जा सकता है।

आवश्यक कागजात –
1 आवेदक एवं सह-आवेदक का आधार कार्ड।
2 मैट्रिक, +2( Polytechnic पबपाठ्यक्रम के लिये 10वीं) एवं प्रमाण-पत्र।
3 प्राप्त छात्रवृति, निःशुल्क शिक्षा संबंधी प्रमाण-पत्र इत्यादि (यदि लागू हो)।
4 आवेदक के बैंक पासबुक की छाया प्रति, जिसमें शाखा का नाम, खाता सं॰ एवं IFSC कोड अंकित हो।
5 संस्थान में नामांकन का प्रमाण-पत्र जिसमें पाठ्यक्रम अवधि अंकित हो (अथवा बिहार राज्य से बाहर के संस्थान के लिये पाठ्यक्रम विवरणिका)।
6 संस्थान से प्राप्त पाठ्यक्रम शुल्क की विवरणी।
7 आवेदक एवं सह-आवेदक यथा – माता/पिता/पति/अभिभावक (रक्त संबंधी) का दो पासपोर्ट साईज फोटोग्राफ।
8 आवासीय प्रमाण पत्र अथवा बैंक पासबुक के प्रथम पृष्ठ की छाया प्रति जिसमें आवास का पता स्पष्ट रूप से अंकित हो अथवा बिजली बिल अथवा टेलिफोन बिल अथवा पासपोर्ट अथवा ड्राईविंग लाईसेंस अथवा वोटर आई.डी. कार्ड अथवा मतदान हेतु प्रयुक्त प्रमाण पत्रों में से कोई एक हो।

ऑनलाईन आवेदन हेतु वेबसाईट/पोर्टल –

www.7nishchay-yuvaupmission.bihar.gov.in

टॉल फ्री नंबर – 1800-345-6444 पर उपलब्ध है।

नोटः अगले भाग में हम द्वितीये योजना स्वयं सहायता भत्ता पर प्रकाश डालेगें

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *