मच्छर भगाने का उत्तम तरीका

स्वर्गीय श्री राजीव दिक्षित द्वारा बताया गया सरल उपाय को जानें-

आजकल सभी लोग मच्छर मारने वाली दवा, टिकिया का उपयोग करते हैं, यह बाजार में अलग-अलग नामों से बिकती है। कोई द्रव रूप में आती है, तो कोई टिकिया के फॉर्म में आती है, कई क्वाइल के फार्म में आती है। आप उसको इस्तमाल करते हैं, उसमें जो इस्तमाल होने वाले रसायन है वो डी-ट्रान्स ऐलथ्रिन, मेल्फो-क्वीन, फॉसफीन है ये तीन खतरनाक रसायन है। ये तीनों रसायन यूरोप,अमेरिका के छप्पन देशों में बंद है वो भी 20 साल से बंद है। हम हमारे घर में छोटे-छोटे बच्चों के ऊपर लगा के छोड़ देते है। मैंने कई घरों में देखा कि 2-3 महीने के बच्चे सो रहे हैं और उनके नजदीक में वो क्वाईल जल रहा है और साँस के माध्यम से बच्चों के फेफड़े में जाते रहते हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि ये मच्छर मारने की दवाई अंत में मनुष्यों को मार देती है। कई बार क्या होता है कि इससे मच्छर तो नहीं मरता है लेकिन मनुष्य जरूर मर जाता है। जिनके लिए ये दवाई इस्तमाल होती है और ज्यादातर ये दवाओं का व्यापार डी-ट्रान्स ऐलथ्रिन, मेल्फो-क्वीन, फॉसफीन हिन्दुस्तान में विदेशी कम्पनी के कंट्रोल में है और वो अंधा-धूंन रसायन बेच रहे हैं और कुछ स्वदेशी कम्पनी भी बनाकर उनको बेच रही है। आप जरा विचार करें आपके सुरक्षा के लिए आप की आत्म रक्षा के लिए कम-से-कम आप इसे इस्तमाल करना बंद करें।

फिर आप बोलेंगे कि मच्छर भगाने के लिए क्या करें, तो सबसे अच्छा उपाय है कि आप मच्छरदानी का उपयोग करें। स्वदेशी है,सस्ती है, गुणवत्ता में अच्छी है। सारे देश में उत्तर से दक्षिण-पुरब से पश्चिम में मिलती है और नुकसानदायक नहीं है। कोई समय रोधक नहीं है एकबार खरीदे तो 5 से 10 साल चलेगी अब तो वो डंटे वाली मच्छरदानी भी मिलने लगी है, अब तो छाते जैसे मच्छरदानी भी मिलने लगी है उसे खोलो और सो जाओ। चादर की तरह भी ओढ़कर सो जाएँ। कम-से-कम मच्छर मारने वाली दवाई से तो अच्छी है। मच्छर दवाई खरीदो तो विदेशी कम्पनी को मुनाफा दो और अपना नुकसान करो। अगर आप चाहें तो एक और प्रयोग कर सकते हैं नीम का तेल बाजार में मिलता है तो नीम तेल में ऐसे जलाएँ जैसे दिपक, एक दिपक लें उसमें एक बाती बनायें और नीम तेल उसमें डालकर जला दें और जब तक वह जलेगा तबतक मच्छर नहीं रहेगा। इतना सस्ता उपाय नीम का तेल बाजार में इतना सस्ता मिलता है आराम से 3-4 महीना चलता है। दूसरा एक तरीका है गाय के गोबर से बनी हुई धूपबत्ती भी बाजार में आ गई है। उनको जलाकर सो जाए, वो भी मच्छर को भगाती है और गुणवत्ता में भी अच्छी है। अगर गाय की गोबर से धूप बत्ती, अगरबत्ती जलातें तो उसका पैसा किसी ग्वाले या गोशाला वाले को मिलता है। उससे गाय की रक्षा होगी और देश की भी रक्षा होगी। यदि आप किसी रसायन अगरबत्ती को उपयोग करते है तो इससे आपका ही नुकसान होगा। तो एकबार अवश्य विचार करें।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *